अब घर बैठे बनाएं किसान क्रेडिट कार्ड को करें रिन्यू जाने क्या है तरीक

डेबिट क्रेडिट कार्ड की तरह किसान क्रेडिट कार्ड को भी एक्सपायरी डेट होती है और इस समय समय समय पर हिंदी पुराना होता है अगर आपका भी केसीसी एक पर होने वाला है तो आप उसे घर बैठे रिन्यू करा सकते हैं

किसानों के लिए सरकार ने किसान क्रेडिट कार्ड पेश किया है जिसमें किसानों को खेती से लेकर पशु पालन मछली पालन और डेयरी फार्मिंग के लिए लोन का प्रावधान है डेबिट कार्ड क्रेडिट कार्ड कितने किसान क्रेडिट कार्ड को भी एक्सपायरी डेट होती है और उसे समय-समय पर रिन्यू कराना होता है अगर आपका भी कैसी सेक्स फायर होने वाला है तो उसे आप घर बैठे रिन्यू करा सकते हैं

अब घर बैठे बनाएं कैसे से 300000 रुपए तक का मिलेगा  क्रेडिट कार्ड

केंद्र सरकार ने किसानों को बड़ी राहत दी है अगर आपके पास किसान क्रेडिट कार्ड नहीं है तो आप स्टेट बैंक ऑफ इंडिया से कैसी से बनवा सकते हैं किसानों को और सशक्त बनाने के लिए केंद्र सरकार ने किसान क्रेडिट कार्ड योजना शुरू की है इस योजना के तहत किसानों को तीन से ₹400000 तक का कर्ज बेहद कम ब्याज पर दिया जाता है किसान इस ऋण राशि को अपने खाते में निवेश कर सकते हैं या बीज भोजन जैसी चीजें खरीद सकता है अगर आपका स्टेट बैंक ऑफ इंडिया में खाता है तो आप घर बैठे ही किसान कार्ड बनवा सकते हैं

आइए जानते हैं क्या है इसका प्रोसेस

एसबीआई खाते से कैसे करें आवेदन अगर आपका भारतीय स्टेट बैंक में खाता है तो आप दोनों एक के जरिए आवेदन कर सकते हैं इसके लिए आप यह लो एग्रीकल्चर प्लेटफार्म पर जाकर किसान क्रेडिट कार्ड के लिए आवेदन कर सकते हैं इसके लिए आपको सबसे पहले फोन में एसबीआई योनो ऐप डाउनलोड करना होगा इसके अलावा एसबीआई योनो की ऑनलाइन वेबसाइट पर जाकर लॉगइन कर सकते हैं

वेबसाइट पर करें यह काम

सबसे पहले सभी जनों की ऑफिशियल वेबसाइट को ओपन करें इस वेबसाइट को ओपन करने के बाद आपको एग्रीकल्चर ऑप्शन दिखाई देगा इस ऑप्शन पर जाने के बाद आपको अकाउंट विद ऑप्शन को सिलेक्ट करना है उसके बाद आपको किसान क्रेडिट कार्ड रिव्यू सेक्स में जाना होगा उसके बाद आपको आवेदन के विकल्प पर क्लिक करना होगा और पेज पर पूछे की सभी जानकारी बंद करनी होगी जानकारी देते ही आपका आवेदन पूरा हो जाएगा

किसान क्रेडिट कार्ड क्या है

किसान क्रेडिट कार्ड बैंकों द्वारा जारी किया जाता है सरकार का उद्देश्य किसानों को खाद बीज कीटनाशक आदि करती वस्तुओं की खरीद के लिए ऋण प्रदान करना है दूसरे उद्देश्य यह है कि किसानों को साहूकारों से ऋण लेने की आवश्यकता नहीं है जो मनमाना ब्याज वसूलते हैं किसान क्रेडिट कार्ड के तहत लिया गया कर दो से चार पीस भी सस्ता होता है बशर्ते कर्ज का भुगतान समय पर किया जाए

बैंक क्या देखते हैं

बैंक ऋण देने से पहले आवेदक किसान का सत्यापन करते हैं इसमें यह देखा जाता है कि वह किसान है या नहीं इसके बाद उसका रेवेन्यू रिकॉर्ड चेक किया जाता है पहचान के लिए आधार पेन और फोटो लिए जाते हैं इसके बाद एफिडेविट लिया जाता है और किसी अन्य बैंक का कोई बकाया नहीं है यह देखा जाता है

फेस और शुल्क में छूट

सरकार ने किसान क्रेडिट कार्ड बनवाने की फीस और शुल्क में भी छूट दी है दरअसल केसीसी बनवाने में 2 से ₹5000 का खर्च आता है सरकार के निर्देश पर इंडियन बैंक एसोसिएशन ने एडवाइजरी जारी कर बैंकों से फीस और चार्ज में छूट देने को कहा है

वित्त मंत्री ने किसानों की आय बढ़ाने के लिए किया बड़ा ऐलान

केंद्र सरकार किसानों की आय बढ़ाने के लिए और उनके उन्नत विकास के लिए लगातार कोशिश कर रही है मौजूदा समय में सरकार की तरफ से कई ऐसी योजनाएं चला रही है जिससे किसानों को जबरदस्त फायदा मिल रहा है पीएम किसान सम्मान निधि सरकार की तरफ से चलाई जाने वाली महत्वकांक्षी योजना में एक है इस योजना का लाभ 10 करोड़ से ज्यादा पात्र किसानों को मिल रहा है इसके तहत किसानों को दो ₹10000 की तीन किस्त यानी सालाना ₹6000 दिए जाते हैं इस बीच वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने किसानों को आर्थिक लाभ के लिए बड़ी बात कही

अब सिर्फ इन किसानों को मिलेगा किसान क्रेडिट कार्ड जाने क्यों

योजना के द्वारा सरकार किसानों को खेती से जुड़े खर्चों के लिए ₹300000 तक का केसीसी लोन सिर्फ 7% की ब्याज दर से मुहैया करवा रही है केंद्र सरकार की ओर से देश के किसानों और मछली पालन करने वाले लोगों के लिए लाभकारी योजना शुरू की गई है

समय पर ऋण चुकाने पर भी छूट

योजना के दौरान सरकार किसानों को खेती से जुड़े खर्चों के लिए ₹300000 तक का केसीसी लोन सिर्फ 7% की ब्याज दर से मुहैया करवा रही है अगर योजना में कोई किसान लाभार्थी 1 साल के टाइम पीरियड के अंदर ही अपने लोन की राशि को झुका देता है तो उसको इसमें 3% की अतिरिक्त रियायत मिलती है

किसान क्रेडिट कार्ड स्कीम को लाने की वजह

देने वाली बात यह है कि बहुत से किसानों को गांव में अपने पैसों से संबंधित आवश्यकता को पूरा करने के लिए साहूकारों से लोन लेना था इसके बाद किसान एक बार साहूकार के जाल में फंसने के बाद मुसीबत में पड़ जाता है जो कि सरकार से मिलने वाला उधार बहुत महंगी ब्याज दरों वाला होता है बहुत से ऋणी किसानों को अपने घर के जेवर और खेती को जमीनों को गिरवी रखकर ऋण लेते हैं इन सभी मुसीबतों से बचाने के लिए किसानों को सरकार किसान क्रेडिट कार्ड स्कीम में लाभार्थी बनाकर बैंकों से कम ब्याज वाले आसान शर्तों पर दिलवा रही है

किसान क्रेडिट कार्ड के लिए जरूरी पात्रता

जिन किसानों के पास कृषि भूमि से व्यक्तिगत अथवा संयुक्त उधारी है और वे कृषि अथवा इससे जुड़े कार्यकलापों से संगीत है व्यक्तिगत कृषि जमीन के मालिक और कृषि का काम करने वाले किसान काश्तकार की शान मौखिक पट्टा और कृषि लाइक जमीन के लिए साझेदारी में फसली हो

किसान क्रेडिट कार्ड के लिए जरूरी प्रमाण पत्र

योजना के योग्यताओं को पूरा करने वाले किसानों को बैंक में स्कीम का फायदा लेने के लिए कुछ जरूरी प्रमाण पत्र देने होंगे जबकि सांसद भी जरूरी प्रमाणपत्र बैंक में प्रस्तुत कर देंगे तभी उनको क्रेडिट कार्ड और कृषि ऋण की सुविधा मिलेगी किसानों को निम्न प्रमाण पत्रों का देना होगा

लाभकारी लोगों को आपातकालीन दिया ,-लाभार्थी लोन मिलने वाली धनराशि का इस्तेमाल जरूरी उपकरण खरीदने और दैनिक व्यवसाय आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए कर सकते हैं किसानों को असंगठित क्षेत्र के किसानों को विभिन्न साहूकारों द्वारा ज्यादा ब्याज दरों पर मिलने वाली रिंग से बचाने के लिए योजना चलाई जा रही है भारतीय बहुत बढ़िया शिकारियों पर निर्भर रहती है

इसी कारण से देश को कृषि प्रधान देश भी कहा जाता है देश के किसान हमेशा से ही अपना श्रम योगदान देकर प्रगति में महत्वपूर्ण भूमिका अदा कर रहे हैं इसी वजह से सरकार का भी करते बनता है कि वहीं किसानों के लिए आर्थिक सहायता और अन्य फायदेमंद योजना पहुंचाएं नाबार्ड और रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया के साथ मिलकर साल 1993 में भारत सरकार किसान क्रेडिट कार्ड को शुरू किए थे

Leave a Comment